KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

जूड़े का गुलाब

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

जूड़े का गुलाब

स्त्री और धरती
दोनों में से बहुत लोगों ने
सिर्फ स्त्रियों को चुना
और प्रेम के नाम पर
उनके पल्लू और जूड़ों में बँध गए;

प्रदूषणों का श्रृंगार किए
विधवा वेश सी विरहणी वसुधा
कराहती रही
तुम्हारी बेवफाई पर|

उसकी गोद में कभी जाओ
तो पाओगे
लाखों स्त्रियों के रिश्तों का प्यार एक साथ,
प्यार जब भी होता है तब–
बहारें खिलनी चाहिए,
संगीत के सोते फूटने चाहिए….;

कोई कभी भी नहीं चाहता कि–
कोई उसे बेवफा कहे
मजबूरियाँ आते–जाते रहती हैं|
प्यार जो एक बार लौटा
तो दुबारा नहीं लौटता,
ना ही मोल ले सकते
और ना ही बदल सकते;

इसलिए सँवारतें रहें
अपनी धरती को
अपने प्रेयसी की तरह|
कहीं कोई तो होगी
जो आपके खिलाए हुए गुलाब को
अपने जूड़े में खोंचने को कहेगी
उस दिन गमक उठेगी
धरती और आपका बागीचा
सुवासित हो जाएगा गुलाब,
स्त्रियाँ और वसुधा अलग कहाँ हैं?

रमेश कुमार सोनी LIG 24 कबीर नगर रायपुर छत्तीसगढ़ 7049355476