Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

कालचक्र गतिशील निरन्तर होता नहीं विराम

118

कालचक्र गतिशील निरन्तर होता नहीं विराम

CLICK & SUPPORT

कालचक्र गतिशील निरन्तर
                      होता नहीं विराम,
दुख    के   पर्वत,नदिया,नाले
               सुख का अल्प विराम।
अब तक मुझको समझ न आया
                   इस जगती का राग
रास       न आयी   इसकी  माया
                 कैसे    हो   अनुराग !
शिथिल हुआ है तन ये जर्जर
               मन भागे   अविराम
दुख के पर्वत , नदिया , नाले ,
             सुख का अल्प विराम।
छायी है बस ग़म की बदली
                 आँसू का     संवाद
साँसों    की   सरगम में गूँजे
           धड़कन का  अनुवाद।
आपाधापी    अन्दर- बाहर
               तनिक नहीं विश्राम ।
दुख के पर्वत , नदिया ,नाले,
          सुख का अल्प विराम ।
कालचक्र गतिशील निरन्तर
               होता  नहीं विराम
दुख के पर्वत, नदिया ,नाले
             सुख का अल्प विराम ।
          नीलम सिंह 
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.