KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

कारगिल की वीर गाथा–डिजेन्द्र कुर्रे “कोहिनूर”

कारगिल विजय दिवस के पावन अवसर पर

0 208

कारगिल की वीर गाथा (घनाक्षरी) – कारगिल वीर


★★★★★★★★
जब भी पड़ा है वक्त,
भारती का बन भक्त।
हिन्द के वीरों ने सदा,
वीरता दिखाई हैं।
★★★★★★★★
घाव देना चाहा जब,
भारत को बैरियों ने।
तब-तब बैरियों को,
धूल भी चटाई है।
★★★★★★★★
विषम समय जब,
कारगिल में बनी तो।
साहस पौरुष शौर्य,
मन में जगाई है।
★★★★★★★
भले निज प्राण दिए,
तिरंगे को हाथ लिए।
टाईगर हिल जब,
ध्वज फहराई है।
★★★★★★★
रचनाकार-डिजेन्द्र कुर्रे “कोहिनूर”
पीपरभावना,बलौदाबाजार(छ.ग.)
मो. 8120587822

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.