KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

Register/पंजीयन करें

Login/लॉग इन करें

User Profile/प्रोफाइल देखें

Join Competition/प्रतियोगिता में हिस्सा लें

Publish Your Poems/रचना प्रकाशित करें

User Profile

कर्म पर दोहे -डॉ एन के सेठी

0 1,809

कर्म पर दोहे -डॉ एन के सेठी

भाग्य कर्म के बीच में , भाग्य बड़ा या कर्म।
कर्म बनाता भाग्य को,यही मनुज का धर्म।।

कर्म करे तो फल मिले,कर्म न निष्फल होय।
कर्महीन जो ना करे ,जीवन का फल खोय।।

कर्मगति है बड़ी गहन , इसे न समझे कोय।
जो समझे सत्कर्म को, निष्कामी वह होय।।

कर्म बिना इस सृष्टि में , होवे न व्यवहार।
इससे चलती सृष्टि भी,जो सबका आधार।।

कर्मअकर्म विकर्म को,समझे जो जीवात्म।
बन जाता निष्काम वह,पा लेता परमात्म।।

©डॉ एन के सेठी

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.