दोहा अर्द्धसम मात्रिक छंद है। यह दो पंक्ति का होता है इसमें चार चरण माने जाते हैं | इसके विषम चरणों (प्रथम तथा तृतीय) में १३-१३ मात्राएँ और सम चरणों (द्वितीय तथा चतुर्थ) में ११-११ मात्राएँ होती हैं।
Doha is a semantic verse. It is of two lines, it consists of four steps. Its odd phases (first and third) have 13–13 quantities and even phases (second and fourth) have 11–11 quantities.

अयोध्या मंदिर निर्माण

अयोध्या मंदिर निर्माण अवधपुरी भगवा हुई, भू-पूजन की धूम। भारतवासी के हृदय, आज रहे हैं झूम।। दिव्य अयोध्या में बने, मंदिर प्रभु का भव्य। सकल देश का स्वप्न ये, सबका…

टिप्पणी बन्द अयोध्या मंदिर निर्माण में

महात्मा गाँधी पर दोहे

महात्मा गाँधी पर दोहे ★★★★★★★★★★★★★★★★ सत्य धरम की राह पर,चलकर हुए महान। भारत आज स्वतंत्र है,पा जिनका अवदान।। परम अहिंसा धर्म का,बनकर नित ही भक्त। राग द्वेष छल दंभ का…

टिप्पणी बन्द महात्मा गाँधी पर दोहे में
दर्द पर दोहे- मदन सिंह शेखावत ढोढसर
doha

दर्द पर दोहे- मदन सिंह शेखावत ढोढसर

दर्द पर दोहे   दर्द किसी को दे नही ,हे  जग  के करतार। दर्द देखा जाय नही ,किससे करू पुकार ।।1   दीन दुखी सब खुश हो, पीड़ा किसे न…

टिप्पणी बन्द दर्द पर दोहे- मदन सिंह शेखावत ढोढसर में
प्रथम वंदना आपकी गणनायक भगवान
doha

प्रथम वंदना आपकी गणनायक भगवान

प्रथम वंदना आपकी गणनायक भगवान प्रथम  वंदना  आपकी ,गणनायक भगवान। शील बुद्धि का ज्ञान दो,मिलें जगत गुणगान।। ****** बुद्धि  प्रदाता आप  प्रभु, है गणेश  जग नाम। मात  पिता के साथ …

टिप्पणी बन्द प्रथम वंदना आपकी गणनायक भगवान में
गुरु बिन ज्ञान मिले नहीं कैसे हो उद्धार
doha

गुरु बिन ज्ञान मिले नहीं कैसे हो उद्धार

गुरु बिन ज्ञान मिले नहीं कैसे हो उद्धार गुरु बिन ज्ञान मिले नहीं, कैसे हो उद्धार। मार्ग कठिन आध्यात्म का, होय सहज सब पार।।   गुरु की कर नित बन्दगी,मार्ग सुक्ष्म दरशाय। पकड़ डोर…

टिप्पणी बन्द गुरु बिन ज्ञान मिले नहीं कैसे हो उद्धार में
सरस के दोहे-दिलीप कुमार पाठक सरस(SARAS KE DOHE)
doha

सरस के दोहे-दिलीप कुमार पाठक सरस(SARAS KE DOHE)

1- जय माता हे शारदे ,मेटो मन का मैल| हस्त रखा जब शीश पर, गया उजाला फैल|| 2- साफ सफाई जो करे, रहता स्वस्थ निरोग| तन मन जिसका स्वस्थ है,उसके…

टिप्पणी बन्द सरस के दोहे-दिलीप कुमार पाठक सरस(SARAS KE DOHE) में
निषादराज के दोहे:जय गणेश 
गणेश चतुर्थी विशेषांक

निषादराज के दोहे:जय गणेश 

निषादराज के दोहेजय गणेश ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~जय गणेश जय गजवदन,कृपा सिंधु भगवान।मूसक वाहन  दीजिये, ज्ञान बुद्धि वरदान।।01।। शिव नंदन गौरी तनय, प्रथम पूज्य गणराज।सकल अमंगल को हरो,पूरण हो हर काज।।02।। हाथ जोड़ विनती…

टिप्पणी बन्द निषादराज के दोहे:जय गणेश  में