Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

खादीधारी पर कविता

0 145

खादीधारी पर कविता

समय-समय पर
पनप जाते हैं
नए-नए नाम से
नए-नए वायरस
जो करते हैं संक्रमित
इंसानों को
बिना जाति-धर्म का
भेदभाव किए
ढूंढ़ा जाता है उपचार
इन वायरस का

CLICK & SUPPORT

संसद-विधानसभाओं में
चौकड़ी मारे बैठे वायरस
जाति-धर्म के नाम पर
करते हैं संक्रमित
मानवता को
नहीं हुआ आज तक
कोई अनुसंधान
इनके उपचार के लिए
सर्वाधिक खतरनाक हैं
ये खादीधारी वायरस
दिन प्रतिदिन इनका प्रकोप
बढ़ता ही जा रहा है

-विनोद सिल्ला©

Leave A Reply

Your email address will not be published.