Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

लहराता तिरंगा बजता राष्ट्रीय गान – राजेश पान्डेय *वत्स*

0 200

लहराता तिरंगा बजता राष्ट्रीय गान

 

कहीं लहराता तिरंगा
बजता राष्ट्रीय गान कहीं
कहीं कहीं देश के नारे
शहीदों का सम्मान कहीं

पूजा थाली दीप सजाकर
चली देश की ललनाएँ!!
भैया द्वारे सूत खोलकर
रक्षा की ले रही दुआएँ।।

रंग बिरंगी सजी थी राखी
भीड़ लगी थी बाजारों में! 
खिली खिली देश की गली
दो दो पावन त्यौहारों मे! 

CLICK & SUPPORT

दोनों प्रहरी  इस  मिट्टी के
संजोग ये कैसा आज है आई? 
इधर बहन की रक्षक बैठे
उधर सीमा पर सैनिक भाई!

जाता सावन दुख भी देता
फिर न मिलेगा ऐसा रूप! 
पल न बीते भादों आता
ऐसा इनका जोड़ी अनूप!!

गोल थाल सी निकली चंदा
सावन पुन्नी अति मनभावन! 
शिवशंकर का नमन करे सब
बम बम भोले मंत्र है पावन! 

शाम सबेरे दिन भर आनंद
लो फिर आ गयी है रात! 
वत्स कहे शुभ रात्रि सभी को
राम लला को नवाकर माथ!

            – राजेश पान्डेय वत्स

 इस पोस्ट को like करें (function(d,e,s){if(d.getElementById(“likebtn_wjs”))return;a=d.createElement(e);m=d.getElementsByTagName(e)[0];a.async=1;a.id=”likebtn_wjs”;a.src=s;m.parentNode.insertBefore(a, m)})(document,”script”,”//w.likebtn.com/js/w/widget.js”);
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Leave A Reply

Your email address will not be published.