KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कमाए धोती वाला खाए टोपी वाला

0 1,392

कमाए धोती वाला खाए टोपी वाला

मजदूर दिवस
मजदूर दिवस

तेरी व्यथा,तेरी कथा,समझे ना ये दुनिया।
लूटा तुझे अमीरों ने, पकड़ा दिया झुनझुनिया ।
तूने आग में चलके ,पड़ाया रे पांव में छाला ।
कमाए धोती वाला ,खाए टोपी वाला ।।1।।

खड़े किए ,तूने सैकड़ों मंजिल ।
फिर भी निडर तेरा ,दहला ना दिल ।
तेरे खुन काम से हाथों में ,जब बह आए ।
जालिम लोगों ने समझा, तू है कातिल ।
तेरे सपनों पर ,तेरे अपनों पर, लग गया ताला।
कमाए धोती वाला, खाए टोपी वाला ।।2।।

जोड़ें तूने रेशा-रेशा ,
बुनने की तेरी सुंदर पेशा।
दुनिया के लिए कपड़ा बनाया,
फिर भी बदन तेरी खुला कैसा।
तेरे नाम पे ,तेरे काम पे,पड़ गया रे जाला ।
कमाए धोती वाला, खाए टोपी वाला।।3।।

मनीभाई नवरत्न

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.