KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कोई बताओ ना मुझे

0 371

कोई बताओ ना मुझे


क्या अस्तित्व है मेरा
कोई बताओ ना मुझे?
नारी हूं या कठपुतली
कोई समझाओ ना मुझे?

कोशिश करते हो हरदम
मुझे नीचे गिराने के लिए।
वस्त्र फाड़ देते हो सरेआम
मुझे नीचे दिखाने के लिए।
कोई बताओ ना मुझे?

कोई समझाओ ना मुझे?

तुमने मुझे महज़ चीज जाना
शौक अपने पूरा करने के लिए।
मार देते हो मेरे सपने को
अपने को ही ऊपर बढ़ाने के लिए।
कोई बताओ ना मुझे?
कोई समझाओ ना मुझे?

अब पहचान बनाने दो मुझे,
कुछ करके दिखाने दो मुझे ।
तेरे जैसे ही, दुनिया अपनी
अपनी जहान बनाने दो ना मुझे।
अब बताओ ना मुझे?

अब समझाओ ना मुझे?


काजल साह – स्वरचित
Name – kajal sah
Class -10th
Age -15
City – kolkata
Phone -6289072159

Leave A Reply

Your email address will not be published.