Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

कर्ज पर कविता

0 227

कर्ज पर कविता

कर्ज था

कर्ज था
कर्ज ही
उस किसान का
मर्ज था
कह गया अलविदा
जहान को

CLICK & SUPPORT

कर्ज था
कर्ज ही
उस पूंजीपति का
मर्ज था
कह गया अलविदा
भारत को

कर्ज था
कर्ज ही
उस बैंक का
मर्ज था
कह गया अलविदा
अस्तित्व को

-विनोद सिल्ला©

No Comments
  1. Meena Rani says

    यथार्थ चित्रण

Leave A Reply

Your email address will not be published.