कुछ ऐसे, जुड़े किस्से ,मेरे तुमसे

कुछ ऐसे, जुड़े किस्से ,मेरे तुमसे ।
जैसे कागज का कलम से ।
जैसे पत्रों का शबनम से।
कसम से हां कसम से ।।
यार जुड़ा मुझसे जैसे चंदा से रोशनी ।
यार जुड़ा मुझसे जैसे बरखा से दामिनी ।
जुड़ गया तुमसे साथी जैसे दिया संग बाती ।।
कुछ ऐसे जुड़े किस्से मेरे तुमसे।
जैसे दुनिया का जन्म से ।
जैसे चाहत का सनम से ।
कसम से हां कसम से ।
रहना मेरे संग जैसे राजा की रानी ।
करना मुझसे जंग जैसे आग से पानी।
मिल जाना मुझसे दिलबर जैसे सागर से लहर ।।
कुछ ऐसे जुड़े किस्से मेरे तुमसे ।
जैसे संतो का रहम से
जैसे दुल्हन का शरम से ।।
कसम से हां कसम से
(Visited 1 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़

प्रातिक्रिया दे