KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

यदि आपकी किसी एक ही विषय पर 5 या उससे अधिक कवितायेँ हैं तो आप हमें एक साथ उन सारे कविताओं को एक ईमेल करके kavitabahaar@gmail.com या kavitabahar@gmail.com में भेज सकते हैं , इस हेतु आप अपनी विषय सम्बन्धी फोटो या स्वयं का फोटो और साहित्यिक परिचय भी भेज दें . प्रकाशन की सूचना हम आपको ईमेल के माध्यम से कर देंगे.

कुछ पल तुम्हारे साथ

0 93

कुछ पल तुम्हारे साथ

कुछ पल तुम्हारे साथ,
बीते लम्हें मेरे साथ,
उन यादों को सुन्दर रूपहले,
आंचल में समेट कर,
चारों तरफ से उसे ओढ़ लेती हूं,
और महफूस-महसूस, करती हूं।
कितनी बातें तुम्हारे साथ,
कितनी यादें तुम्हारे साथ,
उन यादों में लड़ना झगड़ना,
और खुद से ही शरमा जाना।

कितनी मीठी बातें तुम्हारी,
कितनी यादें प्यार भरी ,
गुनगुनी धूप सी अलसाई सी,
वहां से हटना ही नहीं चाहती,
आंगन से कमरों तक,
कमरों से गलियारों तक,
पता नहीं कितनी यादें,

मेरे हाथों को मजबूती से ,
पकड़ रखा है।हर मौसम में ,
तुमने साथ दिया,
मैंने भी सामना किया है,
तुमने कहां मैं सिर्फ़ तुम्हारा हूं,
तुम्हारा ही रहूंगा,
बस उस दिन से सारे वो ,
लम्हे मेरे पास सुरक्षित हैं।
कुछ पल….

श्रीमती पूनम दुबे अम्बिकापुर छत्तीसगढ़

Leave A Reply

Your email address will not be published.