कुंडलियाँ – बेटी पर कविता

  बेटी पर कविता

beti mahila
बेटी की व्यथा

बेटी जा पिया के घर ,

           गुड़िया नहीं रोना ।

सजा उस घरोंदे को,

           साफ सुथरा रखना।।

साफ सुथरा रखना, 

       पति सेवा तुम करना।

रखना इतनी चाह,

       झगड़ा कभी न करना ।।

कह डिजेन्द्र करजोरि,

         धन संग्रह रखना बेटी ।

रख ख्याल नाती का,

            खुश रहें मेरी बेटी।।

~~~~~~~~~~~~~~~~

डिजेन्द्र कुर्रे”कोहिनूर”

Please follow and like us:

1 thought on “कुंडलियाँ – बेटी पर कविता”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page