KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

माँ की वह आँख

0 95

माँ की वह आँख – 04.05.2020


जब मैंने सुना कि माँ की एक आँख की रोशनी चली गई है
सहसा जैसे रोशनी से मेरी यक़ीन ही उठ गई
मैंने खुद को ज़ोर से झिंझोड़ा
क्या सचमुच वही रोशनी चली गई
जो मुझे और पूरे परिवार को किया करती थी रोशन
क्या सचमुच वही आँख जो मेरी भी आँख थी

आँखे बिना रोशनी की आँखे नहीं हो सकती
जैसे आग बिना ताप के आग नहीं हो सकती
जैसे सूरज बिना प्रकाश के सूरज नहीं हो सकता

कितना प्यार,कितनी ममता, कितनी दया,

कितनी करुणा,कितनी प्यास,

कितनी प्रतीक्षा और कितनी उम्मीदें
रही होगी उस आँख में
अचानक बेपनाह हो गए होंगे ये सारे भाव
जैसे आत्मा के साथ छोड़ देने से बेपनाह हो जाती है देह

वो आँख जिससे माँ ख़ुद को सँवारती रही होगी
वो आँख कभी अपनी सुंदरता पर
मेरे पिता से न जाने कितनी तारीफ़ें लूटी होगी
वो आँख जो अपनों को बहुत दिन बाद देखकर
बड़ी प्रसन्न होती रही होगी
वो आँख न जाने कितनी बार
कभी खुशियों में कभी दुखों में बहाई होगी आँसू
वो आँख जिसकी रोशनी का अंश मुझे भी मिला है
वो आँख जो निराशा के दीये में आशा की रोशनी भर देती थी
वो आँख जो जीवन के तमाम उतार-चढ़ाव में समंजित हो जाया करती थी

हाँ सचमुच वही आँख एक दिन अचानक
घुप्प अंधियारे से भर गई
जैसे भर जाती है दुनियां अंधेरे से
एकाएक खग्रास सूर्यग्रहण लगने के बाद ।

–नरेन्द्र कुमार कुलमित्र
9755852479

Leave a comment