KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

वाणी वंदना : माँ वाणी अभिनंदन तेरा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

वाणी वंदना : माँ वाणी अभिनंदन तेरा

 

माँ वाणी, अभिनंदन तेरा,

करती हिय से, वंदन तेरा,

दिव्य रूप आँखों में भर लूं,

तन हो जाये चंदन मेरा |

माँ वाणी, अभिनंदन तेरा |

 

जीवन अपना, अनुशासित हो,

परिलक्षित हो, परिभाषित हो,

इस पर न हो, तम का डेरा |

माँ वाणी, अभिनंदन तेरा |

 

हम पर माँ, उपकार करो तुम,

द्वेष मिटा दो, प्रीति भरो तुम,

बाल सुलभ सा, हो मन मेरा |

माँ वाणी, अभिनंदन तेरा |

 

पाप, प्रपंच से, दूर रहूँ मै,

निर्मलता हो, सरल बहूं मैं,

हो इतना जीवन धन मेरा |

माँ वाणी, अभिनंदन तेरा |

 

सत्य शाश्वत, सदा रहेगा,

आने वाला, समय कहेगा,

सत्य-कर्म हो, जीवन मेरा |

माँ वाणी, अभिनंदन तेरा |
_ उमा विश्वकर्मा ,कानपुर, उत्तरप्रदेश