KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

परमात्मा मां ही ईश्वर हमारा- शालिनी यादव

शालिनी यादव
जो कि सफेदाबाद बाराबंकी उत्तर प्रदेश की रहने वाली हैं , द्वारा रचित यह कविता( मां परमात्मा, मां ही ईश्वर हमारा
)

1 163
मातृ दिवस मई (दूसरा रविवार) MOTHER'S DAY 2ND SUNDAY OF MAY MONTH
मातृ दिवस मई (दूसरा रविवार) MOTHER’S DAY 2ND SUNDAY OF MAY MONTH

मां परमात्मा मां ही ईश्वर हमारा

मां संग बचपन अच्छा होता,
हर सपना सच्चा होता ,
हर मांग को पूरा करती ,
हर इच्छा को पूरा करती।

मैं उस समय की रानी होती
महलों की राजकुमारी होती ।
चाहे कुछ भी हो जाए
चाहे यह समय भी रुक जाए ।


पर मां के जैसा न कोई ,
हमारे लिए वो रात भर न सोई ।
सब रिश्ते दिखावे के मंदिर

महजिस्द गिरजाघर गुरुद्वारा,
मां के बिना कोई नहीं सहारा
उसके आगे ईश्वर भी हारा
उसके बिना कोई नहीं हमारा।
उसके आगे फीका ये संसार सारा ।
वो हमारी जन्मदाता वही स्वर्ग हमारा ,
मां परमात्मा, मां ही ईश्वर हमारा।

शालिनी यादव

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.

1 Comment
  1. वंशिका यादव अनुष्का (अनू) says

    wah wah