Join Our Community

Send Your Poems

Whatsapp Business 9340373299

मंजूर नहीं पर कविता

0 523

मंजूर नहीं पर कविता

संघर्षों में ही

काटूंगा मैं

अपना सारा जीवन

क्योंकि मुझे

CLICK & SUPPORT

किसी तरह से भी

किसी रूप में भी

किसी कारण वश भी

कदम दर कदम पर

समझौता करना

मुझे मंजूर नहीं।।

Leave A Reply

Your email address will not be published.