KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

मतदान जागरूकता दोहा-शतक

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

.                       1 
जागरूक होकर करो,मतदाता मतदान।
राजधर्म निर्वाह को, करिये ये शुभदान।।
.                       2 
सब कामों को छोड़कर,करना है यह काम।
एक दिवस मतदान का,बाकी दिन आराम।।
.                      3 
सही करो  मतदान तो, हो उत्तम सरकार।
मन का प्रत्याशी चुनो,मत दे कर हर बार।।
.                      4 
डरो नहीं, झिझको  नहीं, रहे प्रशासन संग।
अच्छा  प्रत्याशी  चुनो, लोकतंत्र  के  अंग।।
.                       5  
अब आलस को त्यागिए,चलो बूथ परआज।
निर्भय हो  मतदान कर,  लोकतंत्र के काज।।
.                       6 
मन से जो  मतदान हो ,हो अच्छी  सरकार।
कर चुनाव सरकार का,सुख से जीवन सार।।
.                      7 
पहचान  पत्र  साथ ले, जाना  देने  वोट।
आना नहीं है लोभ में,भय दारू या नोट।।
.                       8 
ई.  वी. एम. मशीन  से , करना  है  मतदान।
यह अपना अधिकार है,इसको सब ले जान।।
.                       9 
सब को प्रेरित कर चलो,करना है मतदान।
मत के बल सरकार है, लोकतंत्र की शान।।
.                    10 
निष्पक्षी मतदान से, हो चुनाव  हर बार।
अच्छे नेता जीतकर, बने भली सरकार।।
.                     11 
लोकतंत्र  की रीढ़  हो, मतदाता  भगवान।
तुमसे ही सधते सदा,सब जन के अरमान।।
.                    12 
अच्छे लोगों  को चुनो ,बने भली  सरकार।
सबका साथ विकास हो,नव विचार संचार।।
.                    13 
सर्व मुख्य अधिकार है, लोकतंत्र  मतदान।
इसका सद उपयोग हो,रहो मती अनजान।।
.                     14 
बी.एल.ओ. से बात कर ,नाम सूचना  जान।
साथ रखो पहचान भी,फिर करना मतदान।।
.                     15 
झूँठे  झाँसों  से  बचो, अंतर्मन  की मान।
जाति पंथ को भूलकर,करना है मतदान।।
.                    16 
सभी प्रलोभन त्याग के,रख मन का ईमान।
अच्छे से अच्छा  चुनें, मन से कर  मतदान।।
.                     17 
नागरिकों के काम हो,ऐसी हो सरकार।
सबक सुने नुमाइंदा ,मतदाता  मनुहार।।
.                    18 
मूल तत्व मतदान है,लोकतंत्र की शान।
निर्माता  सरकार के ,मतदाता  हैं जान।।
.                     19 
वर्ष अठारह आयु हो,लिख सूची मे नाम।
मतदाता  बन नागरिक, वोट देय आराम।।
.                     20 
बहु बेटी सब साथ में , मतदाता अधिकार।
सोच समझ मतदान कर,सपने हों साकार।।
.                     21 
मत का  सत उपयोग हो ,लोकतंत्र कें माँहि।
हो विकास नित ही नये,देश चमन हो जाँहि।।
.                     22 
मत की शक्ति अनूप है, करो  वोट भरपूर।
जाति पाँति लालच बला,इनसे रहकर दूर।।
.                     23 
संसद और विधायिका,हैं सब मत के जोर।
जागरूक मतदान हो, सत प्रेरण  पुरजोर।।
.                     24 
जनता के सेवक चुनो,कर्मठ और निष्काम्।
मतदाता  भगवान हैं, जब चुनाव हों आम।।
.                    25 
बहकावें  में  दे दिया,  तुमने  गर  जो वोट।
वर्षों तक पछताओगे, पड़े हकों पर चोट।।
.                    26 
दल दलदल में मत पड़ो,व्यक्ति चुनो महान।
लोकतंत्र  मजबूत हो, हम भी लगें सुजान।।
.                     27 
मत की ताकत है बड़ी,समझ लेय मन माय।
एक  वोट  से  हार  हो , उनसे  पूछो  जाय।।
.                     28 
ईंट एक से एक जुड़,बने महल आकार।
एक एक मत से बने ,प्रजातंत्र सरकार।।
.                    29 
भावुकता में मत करो ,कभी यार मतदान।
बिना विचारे फैसला ,होती खुद  की हान।।
.                    30 
उंगली पर स्याही लगे, यही वोट पहचान।
वरना मुँह कालिख लगे,खोटे ग्रहे समान।।
.                    31 
सावचेत होजा सखे, औरों को  दे सीख।
मत देना अधिकार है,वोट नहीं है भीख।।
.                    32 
दल के  बंधन में पड़े, अनचाहे  हो लोग।
अपना मत न दीजिये, कर नोटा संजोग।।
.                    33 
बड़े छोट नेता बनेे,मतदाता की आस।
बुरे कभी न वोट दें,बने गले की फाँस।।
.                    34 
वादे करे लुभावने,फिर पाछे नहि आय।
उनको वोट न दीजिए,भेजो धूल चटाय।।
.                    35 
वोट हमारा कीमती,सोच समझ कर देय।
दौर चुनावी  है यहाँ, भल नेता  चुन लेय।।
.                     36 
ठीक परख मतदान कर,अंतर्मन समुझाय।
एक बार की चूक से, पाँच साल  पछताय।।
.                    37 
मत अयोग्य को दें नहीं, चाहे  हो वह  खास।
वोट देय हम योग्य को,सब जन करते आस।।
.                    38 
समझे क्यों जागीर वे, जनमत के मत भूल।
उनको मत देना नहीं, जिनके  नहीं   उसूल।।
.                    39 
एक वोट  शमशीर है, करे जीत और हार।
इसीलिए मतदान कर, एक  वोट  सरकार।।
.                    40 
मतदाता पहचान को, लेय कार्ड  बनवाय।
निर्भय हो निर्णय करें, वोट देन  को जाय।।
.                    41 
वर्ष अठारह होत ही,बी.एल.ओ पहि जाय।
मतदाता सूची बने, तुरतहि  नाम  लिखाय।।
.                    42 
अपना मत निर्णय करे, सत्य बात यह मान।
यही समझ के कीजिए,सोच समझ मतदान।
.                     43 
लोकतंत्र मे ही मिला, यह अनुपम  उपहार।
अपने मत से हम चुनें, अपनी  ही  सरकार।।
.                    44 
भारत के हम नागरिक,मत अपना अनमोल।
संसद और विधायिका, चुनिए  आँखे खोल।।
.                    45 
ई.वी.एम. को  देखिए, चिन्ह  चुनावी  देख।
अंतर्मन  से  वोट  दें , तर्जनि  अंगुलि  टेक।।
.                    46 
सबको यह समझाइए, देना वोट  विवेक।
लोकतंत्र कायम रहे, चुनिए मानस  नेक।।
.                   47  
बड़े बुजुर्गन  साथ ले, चलना  अपने  बूथ।
मत का हक छोड़ें नहीं, चाहे भीड़ अकूथ।।
.                    48 
नर  नारी  दोनो  चलें, पंक्ति  भिन्न  बनाय।
बारी  बारी वोट दो, सबको यह समझाय।।
.                    49 
सबसे बड़ा जनतंत्र है, भारत  देश महान।
मतदाता  उसके  बनें, यही  हमारी  शान।।
.                    50 
जन प्रतिनिधि सारे चुने,अपने मत से आप।
फिर  कैसा  डर  आपको, कैसा  पश्चाताप।।
.                    51 
सगा सनेही मीत जन, सबको यह समझाय।
अपना हक मतदान है,विरथा कभी न जाय।।
.                     52 
हार जीत के लग रहे, जहाँ, तहाँ अनुमान।
मन से कर मतदान तू,   लोकतंत्र सम्मान।।
.                     53 
जनता के आशीष से, जनमत की सरकार।
जागरूक  मतदान  हो, फैले  नहीं  विकार।।
.                    54 
जनमत का आदर करे, नेता  होय सुजान।
बिना लोभ सद्भाव से, कर  देना  मतदान।।
.                     55 
बहुत कीमती वोट है, सोच समझ कर दान।
परचम पहरे जीत का, वोट  वोट  का मान।।
.                     56 
दल भी चिंतन कर रहे, मिले  जिताऊ लोग।
चिंतन कर मतदान कर, तभी मिटे भव रोग।।
.                     57 
राजनीति  के  खेल  में, लोकतंत्र   वरदान।
लोकतंत्र के हित करो, सभी लोग मतदान।।
.                     58 
श्वेत वसन  धारण करे, तुलसी माला कंठ।
विषय भोग में डूबते, कुछ नेता  आकंठ।।
.                    59 
मतदाता  कुछ सोचते, नोटा  एक  प्रयोग।
खारिज सबको कर रहे, राजनीति संयोग।।
.                    60 
झंझावत  भी झेलते, होते  लोक  चुनाव।
बागी  रूठे  दलों से, उनके  चले  मनाव।।
.                    61 
स्वस्थ बने सरकार भी, करना एक उपाय।
सबको ही जागृत करो, मत देने को जाय।।
.                     62 
मन से जब मतदान हो, देश   हितैषी काम।
नेता  चुने  सुजान  तो, सुखी  रहे  आवाम्।।
.                      63 
जाति पंथ मजहब सभी,चले  चुनावी दाव।
मत देना अधिकार से, सोच देश हित भाव।।
.                     64 
धनबल भुजबल से लड़े, नेता  कई चुनाव।
गुप्त रखो मतदान को, आए प्रकट प्रभाव।।
.                    65 
शिक्षित सभ्य सदस्य हो,विज्ञ और गुणवान।
उनके ही हित मे करो,आप स्वजन मतदान।।
.                    66 
मनमानी  सरकार  की, मत से रोक सुजान।
पासा पलटे भावि का, सोच समझ मतदान।।
.                    67 
दागी   नेता   दूर  कर, साँचे  को  मतदान।
नेता  माने  सत्य ही, जनता का  अहसान।।
.                    68 
नव मतदाता  चतुर हैं, शक्ति  युवा  अपार।
मत की शक्ति जान कर, देना सोच विचार।।
.                    69 
जाति धर्म की बात पर,मत करना मतदान।
निर्भय मन  से वोट दो, भारत  देश  महान।।
.                    70 
अंधे   बूढ़े   लोग   जो,   होते   हैं   हैरान।
उनको भी लो साथ में, करना  है  मतदान।।
.                    71 
दिव्यांगों के हित बने,सुविधा विविध प्रकार।
सभी करें  मतदान तो, अपना है अधिकार।।
.                    72 
अपने  भारत  देश में, मने  खूब  त्यौहार।
लोकतंत्र का पर्व जब, चुने भली सरकार।।
.                      73 
पर्व सभी देते  खुशी, संविधान अधिकार।
वोट अगर  डालें सभी, तभी पर्व साकार।।
.                      74 
होली  का   संदेश   है, करो   बुराई  दूर।
लोकतंत्र का मान हो, वोट  पड़े  भरपूर।।
.                      75 
सबको गले लगा सखे,होली करो हुलास।
जागरूक मतदान है, जनता का विश्वास।।
.                      76 
नया आज संकल्प  लें, करें  बुराई  त्याग।
सब को  देना वोट  है, लोकतंत्र  की  माँग।।
.                     77 
होली  होनी  है  सखे, जल मत कर बर्बाद।
सोच समझकर वोट दें, तब होली आबाद।।
.                    78 
रंग  अबीर  गुलाल से, खेली   होली  खूब।
लोकतंत्र मतदान से, चुन  सरकार  बखूब।।
.                    79 
रंग  लगाओ सोच कर, करना  है  मतदान।
शुभ होली संकल्प लो, करना  देश महान।।
.                     80 
अवगुण की होली जला,मानवता हित मान।
जनहित  में  संकल्प  से, करना है मतदान।।
.                     81 
होली   जलने  में  सदा, बचा   रहे  प्रल्हाद।
सत्य राह मतदान से,जनगण मन आल्हाद।।
.                    82
होली  पर  शुभकामना, बढे वतन सम्मान।
सबको लेकर साथ में, करना सब मतदान।।
.                     83 
अपना भारत अमर हो, अमर  तिरंगा मान।
संविधान की भावना, सबका हक मतदान।।
.                    84 
सैनिक  भारत  देश के, साहस  रखे अकूत।
सबका हित मतदान से, सच्चे   वीर सपूत।।
.                    85 
रक्षित   मेरा   देश   है, बलबूते    जाँबाज।
लोकतंत्र  सिरमौर  है, मतदाता   सरताज।।
.                    86 
विविध  मिले  हो एकता, इन्द्रधनुष सतरंग।
जागरूक  मतदान  से, रखते  मान  त्रिरंग।।
.                     87 
जय जवान की वीरता, धीरज वीर किसान।
लोकतंत्र मतदान से, आज  विश्व  पहचान।।
.                    88 
संविधान  है  आतमा, संसद   हाथ  हजार।
मात भारती शान हित,कर मतदान विचार।।
.                     89 
मेरे   प्यारे   देश   के, रक्षक  धन्य  सपूत।
मत  देवें  सब नागरिक, मात भारती पूत।।
.                     90 
रीत  प्रीत  सम्मान की, बलिदानी सौगात।
वोट  देय  सम्मान कर, मात भारती गात।।
.                     91 
वेदों  में  विज्ञान  है, कण  कण में  भगवान।
सैनिक और किसान सब,खूब करें मतदान।।
.                     92 
आजादी गणतंत्र की, बनी  रहे  सिरमौर।
लोकतंत्र  फूले फले, वोट करो  पुरजोर।।
.                     93 
मेरे  अपने  देश  हित, रहना   मेरा   मान।
जीवन अर्पण देश को, पर पहले मतदान।।
.                     94 
*मेरा* भारत हो सदा,विकसित अरु गतिमान।
*राष्ट्र* भक्ति  की  भावना, जागरूक मतदान।।
.                     95 
*भारत* अपना हो सदा, दुनिया में  सिरमौर।
*रखें*  मान  मतदान का, पीछे  खाएँ  कौर।।
.                     96 
*तहजीबें*  ऊँची  सदा, सत्य  अहिंसा  राह।
समरस हो मतदान में, ईश्वर अरु अल्लाह।।
.                     97 
*हाल* सभी के हों भले,रखलें सत अभिमान।
*नमन* शहीदों को करें, सोच समझ मतदान।।
.                    98 
नारी   शक्ति   हित  रहे, मान   और  ईमान।
बिटिया के सम्मान हित,कर मानस मतदान।।
.                    99 
लोकतंत्र  जिन्दा  रहे ,जन  हेतु  संविधान।
संसद और विधायिका, जागरूक मतदान।।
.                  100 
शासन  सुखदायक  बने, लगे न दिल्ली दूर।
कनक विहग सम्मान हो, वोट करो भरपूर।।
.                  101 
विश्व  गुरू  दर्जा  बने, भारत  रहे  महान।
शर्मा बाबू लाल कहि, खूब करो  मतदान।।
.               ….….
✍© RJ-1100/2018
*बाबू लाल शर्मा “बौहरा”*
*सिकन्दरा,दौसा,राजस्थान*
मो.न.9782924479


Leave A Reply

Your email address will not be published.