KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

यदि आपकी किसी एक ही विषय पर 5 या उससे अधिक कवितायेँ हैं तो आप हमें एक साथ उन सारे कविताओं को एक ईमेल करके kavitabahaar@gmail.com या kavitabahar@gmail.com में भेज सकते हैं , इस हेतु आप अपनी विषय सम्बन्धी फोटो या स्वयं का फोटो और साहित्यिक परिचय भी भेज दें . प्रकाशन की सूचना हम आपको ईमेल के माध्यम से कर देंगे.

मेरे बाबा का बक्सा – अतुल भारद्वाज

मेरे बाबा का बक्सा

0 73

ये बात उस समय की है-
जब आंसू टपकने से पहले दुकान खुल जाते थे,
बस करवट बदलने से पंखे डोल जाते थे।

उसमें रखा कुछ ऐसा मेरा साजो-सामान था,
जिनका मतलब समझना सिर्फ उनके लिए आसान था।

उन्हें रख दूँ कहीं पे ऐसी जगहें अनेक थीं,
पर दुनिया की सबसे महफूज़ जगह सिर्फ एक थी।

उसमें जन्नत तक जाने के रास्तों का नक्शा था,
कोई छोटी मोटी चीज़ नहीं वो मेरे बाबा का बक्सा था।।

—अतुल भारद्वाज—
Address: Varanasi
Uttar Pradesh

Leave A Reply

Your email address will not be published.