KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook

@ Twitter @ Youtube

मिल-जुल कर सब खेले होली – पंकज

340

मिल-जुल कर सब खेले होली – पंकज

holi
holi

फाल्गुन का मौसम है आया,
                फ़ाग गीत सबको है भाया।
अम्बर पर रंगों का साया ,
                 सबके मन में प्रेम समाया।
तुम भी आ जाओ हमजोली,
           मिल-जुल कर सब खेले होली।
झांझ,नगाड़े,ताशे,ढोल,
                      कानो में रस देते घोल।
बात सुनो ये बड़ी अनमोल,
                द्वेष छोड़ और प्रेम से बोल।
सबके संग हो हंसी ठिठोली,
           मिल-जुल कर सब खेले होली।
टेशू, पलाश के फूल खिलेंगे,
                        होली वाले रंग बनेंगे।
मुख पर मुखौटे खूब सजेंगे,
                पी के भंग सब खूब नचेंगे ।
पिचकारी से भिगो दे चोली,
            मिल-जुल कर सब खेले होली।
किस्म-किस्म पकवान बनाओ,
               और सभी मित्रो को बुलाओ।
बैरी को भी गले लगाओ,
                   अपने मन से बैर मिटाओ।
सब जन बोले प्रीत की बोली,       
             मिल-जुल कर सब खेले होली।
            

पंकज

You might also like

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.