मोह पर कविता: बहुत कठिन है आज भी लोभ मोह का त्याग-मनोरमा चन्द्रा “रमा”

मोह पर कविता

बहुत कठिन है आज भी ,
               लोभ मोह का त्याग ।
गाँव, शहर सब देख लो ,
               मतलब से जन भाग ।।
राम – नाम का जाप कर ,
              राम – मंत्र है सार।
मुक्ति मिले हैं मोह से ,
              जीव – जगत भव पार ।।
बिना बिगाड़े जो बने ,
              ऐसा कर निर्माण ।
मोह रहित मन – भाव धर ,
              उससे है कल्याण ।।
स्वार्थ सिद्ध करते सभी ,
              समय रहत इंसान ।
मोह – जाल पड़कर सदा ,
              भूल गए पहचान ।।
गलत मोह को छोड़कर ,
             दिव्य करें शुभ कर्म ।
कहे रमा ये सर्वदा ,
             वही बड़ा निज धर्म ।।
                      *~ मनोरमा चन्द्रा “रमा”*
                          *रायपुर (छ.ग.)*
(Visited 9 times, 1 visits today)