KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

मुर्गा पर बाल कविता

0 54

मुर्गा पर बाल कविता

मुर्गा पर बाल कविता



मुर्गा बोला कुकड़ू, कूँ,
चल मेरे भैया रूकता क्यूँ
कुत्ता भौके, भौ-भौं-भौं,
अटकी गाड़ी पौं- पौं-पौ।
बकेरी आई, बिल्ली आई,
मैं-मैं आई, म्याऊँ म्याऊँ आई
धक्की गाड़ी धौं-धौं-धौं,
चल दी गाड़ी पौ-पौं-पौ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.