KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

नव पीढ़ी हैं हम

0 63

नव पीढ़ी हैं हम

नव पीढ़ी हैं हम हिन्दुस्तान के
वंदे मातरम्,वंदे मातरम् गाएंगे

सबसे बड़ा संविधान हमारा
अम्बेडकर पर हमें है गर्व
लोकतंत्र है अद्वितीय हमारा
चलो मनाते हैं गणतंत्र पर्व
आजादी के हैं परवाने
वतन पे जान लुटाएंगे
नव पीढ़ी हैं……

हम हैं भारत माता के लाल
हमारी बात ही कुछ और है
दुनिया एक दिन मानेगी
हम ही जमाने की दौर हैं
हमारे हौसले हैं फौलादी
कांटों में फूल खिलाएंगे
नव पीढ़ी हैं…..

अब होगा दिग्विजय हमारा
शिखर पर परचम लहराएगा
वो  दिन अब  दूर  नहीं है
जब चांद पे तिरंगा छाएगा
इरादे नेक हैं हमारे
दुनिया को दिखलाएंगे
नव पीढ़ी हैं……

सुकमोती चौहान रुचि
बिछिया,महासमुन्द,छ.ग.

Leave a comment