KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

बौहरा के दोहे (नव वर्ष विशेष)

बौहरा के दोहे (नव वर्ष विशेष)

स्वागत नूतन वर्ष का, करते भाव विभोर।
गुरु दिन भी होने लगे,मौसम भी चित चोर।।
. ??
माह दिसंबर में रहे, क्रिसमस का त्यौहार।
संत शांता क्लाज करे,वितरित वे उपहार।।
. ??
सकल जगत में मानते,ईसा ईश महान।
चला ईस्वी साल भी,इसका ठोस प्रमान।।
. ??
साज सज्ज सर्वत्र हो,खूब मने यह रीत।
मेल मिलाप सभी रहें,भली निभाएँ प्रीत।।
. ??
ईसा के उपदेश का,सब हित है उपयोग।
जैसे सब के हित रहे, प्राणायाम सुयोग।।
. ??
देख सुहाना दृश्य कवि, गँवई, मंद,गरीब।
भाव उठे मन में कई, करते नमन सलीब।।
. ??
नूतन वर्ष विकास की, संगत क्रिसमस रात।
गृह लक्ष्मी दीपावली , सजे उजाले पाँत।।
. ??
उच्च मार्ग को देख निश,मन में उठे विचार।
सुन्दर पथ ऐसा लगे, इन्द्र लोक पथ पार।।
. ??
ऊँचे चढ़ते मार्ग से,लगता हुआ विकास।
लगातार ऊँचे चढ़े, छू लें चन्द्र प्रकाश।।
. ??
नीचे सागर पर्व सा, ऊपर लगे अकाश।
तारक गण सी रोशनी, फैले निशा प्रकाश।।
. ??
नभ को जाते पंथ को,खंभ रखें ज्यों शीश।
नव विकास सदमार्ग की, राह बने वागीश।।
. ??
आए शांता क्लाज जो ,शायद यही सुमार्ग।
उपहारों से पाट दें, गुरबत और कुमार्ग।।
. ??
शहर सिंधु सरिता खड़े, ऐसे पुलिया पंथ।
लगते पंख विकास के, त्यागें सभी कुपंथ।।
. ??
नई ईसवीं साल का , नया बने संकल्प।
तमस गरीबी क्यों रहे,नवपथ नया विकल्प।।
. ??
अभिनंदन नव साल का,करिए उभय प्रकार।
युवकों संग किसान के,श्रमी सपन साकार।।
. ??
बिटिया प्राकृत शक्ति है, बढ़े प्रकाशी पंथ।
पथ बाधाओं रहित हो,उज्ज्वल भावि सुपंथ।
. ??
सत पथ भावि पीढियाँ,चलें विकासी चाल।
सबको संगत लें बढ़ें, रखलें वतन खयाल।।
. ??
नये ईसवीं साल में, बड़े दिनों की आस।
रोजगार अवसर मिले, नूतन पंथ विकास।।
. ??
जीवन में किस मोड़ पर,हों खुशियाँ भरपूर।
साध चाल चलते चलो, दिल्ली क्यों हो दूर।।
. ??
विकट मोड़ घाटी मिले,अवरोधक भी साथ।
पार पंथ खुशियाँ मिले, धीरज कदमों हाथ।।
. ??
सड़क पंथ जड़ है भले, करते हैं गतिमान।
सही चाल चलते चलो,नवविकास प्रतिमान।
. ??
पथ में अवरोधक भले, पथ दर्शक भी होय।
पथिक,पंथ मंजिल मिले,सागर सरिता तोय।
. ??
उच्च मार्ग अवधारणा, सोच विचारों उच्च।
मजहब जातिवर्ग नहीं,उन्नति लक्ष्य समुच्च।।
. ??
पाँव धरातल ही रहें, दृष्टि भले आकाश।
ऊर्ध्वगामी सुपंथ चल, होंगे नवल विकास।।
. ??
रोशन करो सुपंथ को,सुदृढ स्वच्छ विचार।
रीत प्रीत स्नेह का, करिए सदा प्रचार।।
. ??
नई साल नव पंथ से ,मिले नए सद्भाव।
दीन गरीब किसान के,अब तो मिटे अभाव।।
. ??
नव पथ नूतन वर्ष के, संकल्पी संदेश।
नूतन सृजन सँवारिए, नूतन हो परिवेश।।
. ??
क्रिसमस का त्यौहार है, सर्व देश परदेश।
सबको ये खुशियाँ रहें,मिले न दुखिया वेश।।
. ??
शांता क्रिसमस में बने, जैसे दानी कर्ण।
दीन हीन दिव्यांग को, लगता अन्न सुवर्ण।।
. ??
बनो शांता क्लाज करो, उपहारी शृंगार।
मानव बम आतंक सब,करदें शीत अंगार।।
. ??
नव पथ नूतन साल के,लिख दोहे इकतीस।
शर्मा क्रिसमस पे करे, नमन मसीहा ईस।।

बाबू लाल शर्मा “बौहरा”
सिकंदरा, दौसा,राजस्थान

Leave A Reply

Your email address will not be published.