KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

नज़र की नज़र से

0 65
नज़र की नज़र से मुलाक़ात होगी
हज़ारों सवालों की बरसात होगी
बयाँ हर सबब हिज़्र का वो करेंगे
कि हर बेगुनाही की इस्बात होगी
सर-ए-राह हमसे जताना न उल्फ़त
गिरेंगे जो आँसू तो आफात होगी
नज़र फ़ेर ली तुमसे हमने कहीं जो
अदब पर ख़ताओं की शह-मात होगी
अगर दिल की राहें जुदा हो गईं तो
ख़लिश सी कहीं दिल में दिन रात होगी
इस्बात=साबित करना
आफात=मुसीबत
कुसुम शर्मा अंतरा
जम्मू कश्मीर
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.