निराला प्रकृति- कुंडलिया छंद

0 328

निराला प्रकृति

निराला रूप प्रकृति का , लगता है चितचोर।
भाये मन को ये सदा , करता भाव विभोर।।
करता भाव विभोर , सभी को खूब लुभाता।
फैला चारों ओर , मनुज दोहन करवाता ।।
रखना ‘मधु’ यह ध्यान , बनें हम नहीं निवाला।
प्रकृति का रहे साथ , करें कुछ काम निराला।।

मधुसिंघी
नागपुर (महाराष्ट्र)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy