KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

दीप पर कविता

0 153

दीप पर कविता

ओ दीप ! तुझे मन  टेर रहा है ।

प्यासे  मृग-सी  अँखियाँ  लेकर

पवन-पथिक को चिट्ठियाँ देकर

पथ   भटके   बंजारे   के   ज्यों

पल-पल   रस्ता   हेर   रहा   है ।

ओ दीप ! तुझे  मन  टेर रहा है ।

देख  प्राण  को  निपट अकेला

लगा   झूमने  दुख    का  मेला

बरसूँगा  नित  पलक-धरा  पर

आँसू    माला   फेर    रहा   है ।

ओ दीप ! तुझे  मन  टेर रहा है ।

तुझ बिन प्रियतम  घोर अँधेरा

कारागृह-सा     जीवन    मेरा

थका हुआ यह साँस का पंछी

कर   पर  दीप  उकेर  रहा  है ।

ओ दीप ! तुझे  मन  टेर रहा है ।

०००

अशोक दीप

जयपुर

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.