KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

ओ नारी- मनीभाई नवरत्न

0 236

ओ नारी- मनीभाई नवरत्न

जिन्दगी चले ना, बिन तेरे ओ नारी!
उठा ली तूने,  सिर अपने  ऐसी जिम्मेदारी ।

मर्दों ने नाहक किये खुद पे ऐतबार ।
सच तो यह है कि नारी होती जग की श्रृंगार ।
महक ऐसे , फूल जैसे खिल उठे क्यारी क्यारी ।
रोशन होता रहे तेरा जी,  फैले ज्ञान की चिनगारी ।।

संयमित रह, सुशोभित रह
तुझे ईश्वरीय वरदान है ।
घर बनाती हरेक मकान  को।
तेरे साये में, तेरा परिवार है।


समाज की बीड़ा उठाने को तोड़ चली चारदीवारी ।
रोशन होता रहे तेरा जी,  फैले ज्ञान की चिनगारी ।।

नारी! तू चीज नहीं कोई उपभोग की ।
तुमसे टिकी है मर्यादा आज भी लोग की ।
ना बढ़े तेरे कदम  उस ओर पे
जिस पथ पर आधुनिकता  है ढोंग की।


तेरे एक गलत के फिराक में है यहाँ कई शिकारी ।
रोशन होता रहे तेरा जी,  फैले ज्ञान की चिनगारी ।।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.