KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

पाप-कुण्डलियाँ

172

                पाप-कुण्डलियाँ

निर्जन पर्वत में अगर ,
                        करो छुपाकर पाप ।
आज नहीं तो कल कभी ,
                      करें कलंकित आप ।।
करें कलंकित आप ,
                    पाप की दूषित छाया ।
उत्तरोत्तर विकास ,
                      बढ़े हैं इसकी माया ।।
कह ननकी कवि तुच्छ ,
                        बुराई करता दुर्जन ।
मिलता है परिणाम ,
                 अश्रु पथ बनता निर्जन ।।

               ~  रामनाथ साहू ” ननकी “
                            मुरलीडीह
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

You might also like

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.