KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

Register/पंजीयन करें

Login/लॉग इन करें

User Profile/प्रोफाइल देखें

Join Competition/प्रतियोगिता में हिस्सा लें

Publish Your Poems/रचना प्रकाशित करें

User Profile

परिवार या मकान- सीमा गुप्ता (लेखिका)

2 619

परिवार या मकान- सीमा गुप्ता (लेखिका)


इंसान थका हारा काम कर लौटता है,
सारे सुख, खुशी,प्यार, हंसी मिलती है,
उसी को परिवार बोला जाता है।,
जहां नहीं मिले ये सब सुकून वो घर..
पत्थर,ईंट का ही मकान बन रह जाता है,

परिवार में खुशी की शहनाई गूंजती है,
प्रेम,प्यार ठुमक- ठुमक डोलता है,
सुख-दुख आपस में बांटा जाता है।

बिखरे जहां साथ- संवाद की रोशनी,
चमके समझ, सहिष्णुता का आलोक,
पोषित हो अनुभव परम्पराओं की ज्योति,
परिवार है जहां इन की अनुभूति होती।

मकान में अलगाव पाया जाता है,
रह करभी वहां नहीं रहा जाता है,
मन मसोस कर जीवन गुजारा जाता है,
पता नहीं कि एक दूसरे से क्या नाता है?

घर को मकान नहीं परिवार बनाएं,
खुशहाली सुख समृद्धि खान बनाएं।


– सीमा गुप्ता (लेखिका)
महल चौक (अलवर)

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.

2 Comments
  1. Bhavesh gupta says

    👏👏

  2. Amita says

    घर को मकान नहीं परिवार बनाएं,
    खुशहाली सुख समृद्धि की खान बनाएं,
    बहुत सुंदर, विश्व परिवार दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं