Join Our Community

Send Your Poems

Whatsapp Business 9340373299

पिता पर दोहे

0 1,190

पिता पर दोहे

पिता क्षत्र संतान के, हैं अनाथ पितुहीन।
बिखरे घर संसार वह,दुख झेले हो दीन।।

कवच पिता होते सदा,रक्षित हों संतान।
होती हैं पर बेटियाँ, सदा जनक की आन।।

पिता रीढ़ घर द्वार के,पोषित घर के लोग।
करें कमाई तो बनें,घर में छप्पन भोग।।

CLICK & SUPPORT

पिता ध्वजा परिवार के, चले पिता का नाम।
मुखिया हैं करते वही , खेती के सब काम।।

माता हो ममतामयी,पितु हों पालनहार।
आज्ञाकारी सुत सुता,सुखी वही घर द्वार।।

✍️

सुश्री गीता उपाध्याय रायगढ़ छत्तीसगढ़

Leave A Reply

Your email address will not be published.