KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

प्रेम है जीवन का आधार

3 1,384

प्रेम है जीवन का आधार

एक सत्य जीवन का, प्रेम जीवन का आधार।
स्नेह प्रेम की भाषा समझे, ये सारा संसार ।

एक उत्तम फूल धरा पर, जो खिल सकता,वो है प्रेम का फूल।
मानव हृदय में प्रस्फुटित होता, प्रेम में क्षमा हो जाती हर भूल।

प्रेम पूर्णिमा के चांदनी जैसी, करती शीतलता प्रदान।
कभी सूर्य की किरणों सम, तेज ताप कर देती महान।

प्रेम में सहनशीलता ,प्रेम में समर्पण का भाव।
प्रेम पिता का प्यार है ,औैर प्रेम ममता की छांव ।

प्रेम के फूल से महक सकता है, ये सारा संसार।
प्रेम मिटाए नफरत को औैर मिटाए बैर की दीवार।

मानव मानसिकता में परिवर्तन, प्रेम से ही संभव है।
मानवता का आधार प्रेम है, जहां प्रेम वहां मानव है।

प्रेम परोपकार भाव से,मानवता की ओर ले जाए।
पाशविक वृत्ति से दूर निकाले , सच्चा मानव हमें बनाए।

अतिशयोक्ति नहीं है ये सब , पूर्ण सत्य है प्यार।
प्रेम ही तो होता है , हम सब का जीवन आधार ।

रीता प्रधान,रायगढ़

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

3 Comments
  1. Ritesh says

    Nice 😊👍

  2. प्रियांशु says

    सुन्दर कविता ,
    एसे कविता लिखते रहो

  3. Nitesh Gupta says

    बहुत ही सुंदर एवं मनमोहन कविता