KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

प्रेम रंग होली हिंदी कविता, आरती सिंह

होली केवल रंगों का ही त्यौहार नहीं अपितु प्रेम और भक्ति का भी पर्व है जो मानवता का सन्देश देता है |

0 1,126

प्रेम रंग होली, हिंदी कविता

होली त्यौहार
होली के रंग

नफरतों की होलिका
जलाई जब भी जाएगी
प्रेम रंग उड़ेंगे
होली मनाई जाएगी
हरे-लाल-पीले-
नीले-गुलाबी रंगों से
अंतरमन प्रीत की
दीवार रंगी जाएगी |

घृणा, अहम् -भावों के
हिरण्यकश्यपों के बीच
एक प्रहलाद की ही
भक्ति याद आएगी
तोड़ सारे पाप-बंध
नाम हरि का लिए संग
अनल गोद बैठ के
आंच भी ना आएगी |

एक प्रेम शाश्वत है
सत्ता नहीं पाप की
काल के भी गाल पर
लाली लगाई जाएगी
होलिकादहन में आज
त्याग करें बुरे काज
तभी शुद्ध मानवता
फाग गीत गायेगी |

नफरतों की होलिका
जलाई जब भी जाएगी
प्रेम रंग उड़ेंगे
होली मनाई जाएगी |

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.