KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

पुलवामा में

0 232

पुलवामा में


प्रेम दिवस पर पुलवामा में,
परवानों को प्यार हुआ।
आज गीदड़ों के हाथों,
था शेरों का संहार हुआ।।
🇮🇳
कट गई,फट गई,बंट गई वो,
फिर भी उसको हमदर्दी थी।
सहज सहेजे थी अब तक,
वो खून में भीगी वर्दी थी।।
🇮🇳
सिसका सिंदूर, रोई राखी,
माता जी सांसे भूल गई।
भाई,बाप और बच्चों की,
जिंदगी अधर में झूल गई।।
🇮🇳
इंच इंच नापा था सबको,
जब बेटे हमने सौंपे थे।
लौटाये तब टुकड़ों में,
वो कौन से मंजर थौंपे थे।।
🇮🇳
बेशक थे वो टुकड़ों में,
पर लिपट तिरंगे आए थे।
अमिट निशानी बनकर वो,
अब आसमान पर छाये थे।।
🇮🇳
धन्य हुई भारत माता,
नम नैनों से सत्कार किया।
लुटा के बेटे माँओं ने,
भारत मां पर उपकार किया।।

शिवराज चौहान नांधा, रेवाड़ी (हरियाणा)

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.