KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

प्यासा पंछी पर कविता-प्रेमचन्द साव

0 325

प्यासा पंछी पर कविता


मन है उदास भटकता फिरे ।
जैसे प्यासा पंछी उड़ता फिरे ।
मन को ना कोई बांध सके।

तो खुले आकाश की खोज करे ।
मन की उड़ान खुशियों की पुकार करे ।
जैसे प्यासा पंछी उड़ता फिरे ।

फूलों में भौंरे जैसे गुंजन करे ।
मन की इच्छा वैसे ही हिलोरे करे ।
जैसे प्यासा पंछी उड़ता फिरे ।

प्रकृति की सुंदरता सावन पूरा करे ।
अँधेरे को दूर जैसे दीया करे।
जैसे प्यासा पंछी उड़ता फिरे ।
जैसे प्यासा पंछी उड़ता फिरे ।
=====================
रचनाकार-प्रेमचंद साव
बसना,8720030700
=====================

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.