राजा बसंत / राजकुमार मसखरे

635
राजा बसन्त
~~🎊~~
आ…जा आ…जाओ,हे ! ऋतुराज बसन्त,
अभिनंदन करते हैं तेरा, अनन्त अनन्त !

मचलते,इतराते,बड़ी खूबसूरत हो आगाज़,
आओ जलवा बिखेरो,मेरे मितवा,हमराज़ !

देखो अब ये सर्दियाँ, ठिठुरन तो जाने लगी,
यह सुहाना मौसम, सभी को है भाने लगी !

पेड़- पौधों में नव- नव कोपलें आने को हैं,
अमियाँ में तो बौर ही बौर ,लद जाने को हैं !

खेतों में सरसों के फूल, झूमें हैं पीले-पीले,
अब राग-रंग का उत्सव,जो हैं खिले-खिले !

इसीलिए सभी ऋतुओं का जी राजा है तू,
ये अजब-गज़ब फ़िज़ाओं को साजा है तू !

सङ्ग-सङ्ग,होली-धुलेड़ी,उत्सव ‘रंग पंचमी’
नवरात्रि, रामनवमी से, सजी है यह जमीं !

पलास की लाली,सवंत्सर,हनुमान जयंती,
वो गुरु पूर्णिमा का पर्व ख़ूब है जो मनती !

संगीत में है राग,,,जी विशेष बसंत बहार ,
साहित्य में काली दास ने रचा ‘ऋतुसंहार’,

बसन्त ने मोह लिया ‘निराला’ को निराला,
कवि ‘देव’ नंदन,पंत,टैगोर ने लिख डाला !

बसंत ऋतु प्रकृति का,यह अनुपम रूप है,
महके ये कली-कली,कानन खिली धूप है !

कोयल,मोर,पपीहे व भौरें छेड़े नये तराने,
बसंत के ये रंग में सब,आतुर है रंग जाने !

हे ऋतुओं के राजा,तेरी अलग ही शान है,
‘मसखरे’ को अपना ले ,तू तो मेरी जान है !

हे बसंत ! सङ्ग में बसंती को भी लाना है,
चैतू,बैसाखू,जेठू को भी अपना बनाना है !

— राजकुमार ‘मसखरे’
मु.-भदेरा ( पैलीमेटा /गंडई )
जि.- के.सी.जी.,( 36-गढ़

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy