KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

रोज ही देखता हूँ सूरज को ढलते हुए

0 217

रोज ही देखता हूँ सूरज को ढलते हुए

दरख्त

रोज ही देखता हूँ
सूरज को ढलते हुए!
फिर अगली सुबह ,
निकल आता है मुस्कुराकर!
नयी उम्मीद और विश्वास लिए,
मेरे पास अब उम्मीद भी नहीं बची
मेरे सारे पत्तों की तरह!
सपने टूटने लगते हैं
जब देखता हूँ
कुल्हाड़ी लिये,
बढ़ रहा है कोई मेरी ओर..
मैं लाचार…
विवश…
उसे रोक नहीं सकता
क्योंकि–
उस इंसान की तरह ही हूँ मैं!
उसके भी अपने उसे छोड़ जाते हैं,
अकेला,असहाय
लाचार,विवश…
फर्क है बस इतना
पतझर के मौसम में ही
दरख्त सूखते हैं
मगर–
इंसानी रिश्ते किसी भी मौसम में……..

डॉ. पुष्पा सिंह’प्रेरणा’
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.