साँझ के हाइकु

साँझ के हाइकु

1
साँझ महके
प्रिया जूड़े में फँसा
पिया को ताके ।।

2
साँझ पुकारे
सूर्य शर्म से लाल
चाँद जो झाँके ।।

3
साँझ का सूर्य
बूढ़े की सुनो कोई
देर क्यों हुई ?

4
रातें डराती
प्रभू भजने लगी
संध्या की ज्योति ।।

5
साँझ का मन
थका , बुझा, रूठा सा
पार्टी हो जाए ।।

6
साँझ का गीत
मन चाहता मीत
बढ़ा लें प्रीत ।।

7
अच्छा दिन था
साँझ खुशी से लौटा
कल की चिंता ।।

8
लोग लौटते
संध्या विदा कर के
थके सो गए ।।

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page