KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook

@ Twitter @ Youtube

समय पर कविता -डॉ. पुष्पा सिंह’प्रेरणा

0 200

समय पर कविता

तेरे पाँवों की जंजीरों को,
पाजेब बना दूँ !
हथकड़ियाँ तोड़ हथेलियों में,
मेहंदी रचा दूँ !
नाजुक कलाइयों में रंगीन,
चूड़ियाँ खनका दूँ!
माथे की शिकन पर,
झिलमिल बिंदिया सजा दूँ !

हे कर्मशील स्त्री आ तुझे,
वनिता बना दूँ!
न घबरा,भयभीत न हो,
न भूल अपनी शक्ति को,
न खामोशी से सहती रह,
जोर जबरदस्ती को! आ चल साथ मेरे,
तुझसे तेरी पहचान करा दूँ!
बदल कर भाग्य रेखाओं को,
मुक्ति का ताज पहना दूँ!

न देख कौतूहल से,
न संशय भरी दृष्टि से,
तुझे अपना परिचय बता दूँ!
मैं समय हूँ समय,
कब किसे, किस ओर घुमा दूँ! तू चल साथ मेरे,
तुझसे तेरी पहचान करा दूँ….

-डॉ. पुष्पा सिंह’प्रेरणा’,अम्बिकापुर, सरगुजा(छ. ग.)

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.