KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

संगीत जरुरी है

131

संगीत जरुरी है  


जीवन  एक  मधुर   संगीत  है  ।
इसे  सुर  लय  में  गाना  सीखो ।
सात  सुरो  की स्वर मालिका  को,
शुद्ध   कंठों  से  लगाना  सीखो ।।


परमेश्वर   का    वरदान  है ,  संगीत  ।
सुर  -लय  छंद   का  गान  है,  संगीत ।
संगीत   नहीं  तो ,  जीवन   नीरस  है ।
गुणी  जन  की  पहचान   है,  संगीत ।।

सप्त  सुरों  की  स्वर   मालिका  पर ।
प्रकृति  प्रफुल्लित   आराधिका  पर ।
अंतरमन    की    गांठों   को    खोलें ,
माँ   अपनी   स्वर   नायिका    पर ।।


राग  ठाठ  की, अनुपम   श्रेणी ।
कंठ  ताल,  छंदों   की   त्रिवेणी ।
जो   साधक  का   ब्रह्म जगा दे ,
तुरीयानंद    की  सुंदर   निसेनी ।।


संगीत   भरा  इस   प्रकृति  पर ।
माँ  भारती   की   संस्कृति   पर ।
आनंदवर्षिणी  अनुभूति   करती ,
स्वर –  समूह  की   आवृति  पर।।


स्वरहीन  जीवन   क्या  जीवन  है ?
संगीत   जहाँ   वहीं   वृदावन    है ।
वेणु     गूँजे,   श्रुति   भेद     बताये ,
वीणापाणी    का    प्रेमांगन   है । ।
             ~  रामनाथ साहू ननकी
                           मुरलीडीह

You might also like

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.