सर्वश्रेष्ठता

*सर्वश्रेष्ठता*

एक
अदना जीव
बेबस कर दिया
असहाय-त्रस्त-सहमा मानव,
छुप बैठा अपनों से बचकर,
जो हर कोण ढाल से,
अपनों सा दिखते हैं.
लेकिन पहचान नहीं बताते आसानी से.

अब उनमें वहीं नहीं
बल्कि कोई और भी है.
जो जान पर तूला है.
हाय! ये मानव कुछ तो भूला है.
नहीं तो ये प्रकृति ,
हमारी भी है मां.
सच!
उसे पता है
संतुलन कैसे है रखना?
परिवर्तन उसका अटल नियम.
रहस्य में अब तक है भविष्य.

बेशक!
बहुत कुछ जीते हैं हमने,
अपने योग्यताओं से.
पर अब भी दूर हैं हमारे हाथों से
और सदा से रहेंगे
वह तमगा,
जिसे कहा जाता है ” सर्वश्रेष्ठता”.

हम साधक हैं, साध्य नहीं.
साधना हमारी नियति.
पर ये,
भूल कर बैठता है बार-बार,
अहं भाव अस्तित्व.
ये भी रहेगी
आदि अनादि .

_(मनीभाई नवरत्न,बसना, छत्तीसगढ़)_

(Visited 3 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़

प्रातिक्रिया दे