साथ-साथ पर कविता- रामनाथ साहू ननकी

साथ-साथ पर कविता

सम्मुख यूँ बैठो रहो ,
जीवन जाये बीत ।
मुक्त भाव से गा सकें ,
सिर्फ प्यार के गीत ।।
सिर्फ प्यार के गीत ,
गढ़ें हम गीत वफा के ।
मानस अंकित चित्र ,
चले हम इसी अदा से ।।
कह ननकी कवि तुच्छ ,
सहेंगे हर इक सुख दुख ।
सपने होंगे सत्य ,
रहो जो मेरे सम्मुख ।।

~ रामनाथ साहू ” ननकी “
मुरलीडीह

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page