KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

सावन में भक्ति

सावन की रिमझिम फुहार के बीच संख व डमरू की आवाज मन की जड़ता को हिला देती है। एक नवीन प्रेरणा
अन्तर्मन को ऊर्जान्वित करने लगती है।
प्रकृति प्रेम सबसे बड़ी ईश्वर सेवा है।

0 1,199

सावन में भक्ति

सावन सुहाना आया,
हरीतिमा जग छाया,
भोले की कृपा है पायी,
जयति शिव बोल।

झूम रही डाली डाली,
मस्त होके मतवाली,
सूरज भी काफी खुश,
नेत्र अपना खोल।

तन तन घंटा बोले,
मन शिव नाम डोले,
बेल पत्र चढ़ाकर,
त्रिदेव जय बोल।

पहला सोमवार है,
रिमझिम फुहार है,
दान दया कर कुछ,
कर भक्ति अनमोल।

मुख पर बहार है,
नागों का गले हार है,
जग को जगा रहे हैं,
डमरू और ढोल।

सावन की बेला आयी,
हरि प्रीत मन छायी,
सुहानी घड़ी में सब,
भक्ति का रस घोल।

★★★★★★★★★★★★★★★★★★★
अशोक शर्मा, कुशीनगर, उत्तर प्रदेश

Leave a comment