KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

सावन पर दोहे

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

सावन पर दोहे


★★★★★★★★
सावन में पड़ने लगी,रिमझिम सरस फुहार।
हरित चुनर ओढ़ी धरा,सुरभित है संसार।।

कोयल कूके बाग में , दादुर करते शोर।
सौंधी माटी की महक,फैल रही चहुँ ओर।।

कल कल कर बहने लगी,धरती में जल धार।
पावस का वरदान पा,आलोकित संसार।।

तरु लता सब झूमकर , देते है संदेश।
प्रेम रहे सब जीव में,छोड़ो कपट कलेश।।

पावस में धरती बनी,अब खुशियों का केन्द्र।
देखा जब मोहक छटा,झूमे आज डिजेन्द्र।।
★★★★★★★★★★★★★★★★


रचनाकार-डिजेन्द्र कुर्रे “कोहिनूर”
पीपरभावना,बलौदाबाजार(छ.ग.)
मो. 8120587822