KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

सायली विधा में रचना

0 231

सायली छंद में रचना

चेहरा
देख सकूँ
नसीब में कहाँ
बिटिया दूर
बसेरा।

अहसास
बस तुम्हारा
पल-पल याद
सताती रही
आज।

याद
आते रहे
वो पल हरदम
जो सुनहरे
बीते।

तेरी
नटखट शैतानियाँ
महकता रहता था।
घर आँगन
मेरा।

अर्चना पाठक (निरंतर)
अम्बिकापुर

Leave A Reply

Your email address will not be published.