Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

शहीदों की कुर्बानी पर कविता -मनोरमा जैन पाखी

0 325

शहीदों की कुर्बानी पर कविता -मनोरमा जैन पाखी

March 23 Martyrs Day
March 23 Martyrs Day

पवन वेग से उड रे चेतक ,
जहाँ दुश्मन यह आया है ।
रखा रुप विकराल दुष्ट ने ,
ताँडव  वहाँ  मचाया  है।


रक्तरंजित हो गयी धरा ,
निर्दोषो के खून से।
जाने न पाये दुष्ट नराधम
रंग दे भू उस खून से ।

CLICK & SUPPORT


रही सिसकती आज वसुंधरा
देखे अपना दामन लाल।
न जाने कितनी माँ बहने,
भैया  खोए खोये लाल।


बन कर कहर  टूटना होगा,
विकराल हवा बन जाना।
कर नष्ट भ्रष्ट  नापाक तंत्र,
रुप काली का धर आना।


मत बनना मेघदूत,
प्रियतम को रिझाने,
आज बन दूत दुर्गा का
दुश्मन को मिटाने।


लौटना तभी जब शहादत का बदला चुका ले,
शहीदों की कुर्बानी धूल में मिलने से बचा ले।

मनोरमा जैन पाखी
मेहगाँव ,जिला भिंड ,मध्य प्रदेश

Leave A Reply

Your email address will not be published.