navdurga

शक्ति वंदना

शक्ति वंदना

करूणाकर कौमारी माता कलिकाकारी तुम्हारी जय हो।
खरलखड्ग खट हाथमें हरदम हेखलहारी तुम्हारी जय हो।
गोमती गंगा गोदावरी गौरी गदाधारी तुम्हारी जय हो।
घर-धर की माता घट-घट वासिनी घंटा घारी तुम्हारी जय हो।


चंचल चतुर चण्डिका देवी चार्किणी चारी तुम्हारी जय हो।
छुप छुप छाया देती क्षण क्षण क्षेमकरी हितकारी तुम्हारी जय हो।
जय जानकी जनक नंदिनी जय सिय सुखकारी तुम्हारी जय हो।
करूणा कर कौमारी माता कलिका कारी तुम्हारी जय हो।


झनझन झनकार दो झट हे माँ सब झंझट झारी तुम्हारी जय हो।
टेर-टूर टर टार दियों जग संकट टारी तुम्हारी जय हो।
ठांव-ठांव सठ डरका मारी ठग नित ठारी तुम्हारी जय हो।
डोली डगर-डगर डर हर के बुद्धि डर डारी तुम्हारी जय हो।


ढोगी ढ़ाढस ढव ढूंढ थके हे बाघ सवारी तुम्हारी जय हो।
करूणा कर कौमारी माता कलिका कारी तुम्हारी जय हो।
तपस्या तीर तान-तान माँ दुष्टों को तारी तुम्हारी जय हो।
थल जल थाह-थाह कर थईया थई-थई ब्रजनारीतुम्हारी जयहो।


दुष्ट कंश दुख दिया देवकी को दुख दूर टारी तुम्हारी जय हो।
धर्म धारिणी माँ धवलमनी करू कर धनु धारी तुम्हारी जय हो।
नये-नये नित भेष निहारूत्रिनेत्रा प्यारी तुम्हारी जय हो।
करूणा कर कौमरी माता कलिका कारी तुम्हारी जय हो।


पापहर परमेश्वर पावन पर पीड़ा हारी तुम्हारी जय हो।
फेरी फेर-फेर चौतरफा दुष्टों का फन फारी तुम्हारी जय हो।
वंदन बारम्बार वर दायिनी ब्राही ब्रह्माणी तुम्हारी जय हो।
भूल चूक हुक कर टुक-टुक भव भंजन भारी तुम्हारी जय हो।


देहु भव्य भवानी भक्ति भाव बाबूराम भय हारी तुम्हारी जय हो।
करूणा कर कौमारी माता कलिका कारी तुम्हारी जय हो।


बाबूराम सिंह कवि
बडका खुटहाँ, विजयीपुर
गोपालगंज (बिहार)841508
मो॰ नं॰ – 9572105032

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page