Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

शहादत पर कविता

0 206

शहादत पर कविता


शहादत की इबादत का,
यही दस्तूर होता है।
दिलो मे गर्व भर जाए,
नयन में नीर होता है।
मुल्क का मान रखते हैं,
मौत ईमान रखते हैं।


जगे जब वीर सीमा पे,
चैन से देश सोता है।
छोड़ परिवार सब प्यारे,
सितारे गगन गिनता है।
तभी तो हर शहादत पे,
किसी का चाँद खोता है।

CLICK & SUPPORT

नमन करते शहादत को,
शमन आतंक करते है।
शहीदी मान के खातिर,
शरीरी तान बोता है।
मुझे मन हूक उठती है,
तिरंगे कफन चाहत की।


मिला ना क्यों मुझे अवसर,
सोच के लाल रोता है।
शहीदों की शहादत से,
यही पैगाम है मिलता।
मरें तो देश के खातिर,
जनम क्यों व्यर्थ ढोता है।


करें अब होंश की बातें,
दिलों में जोश जग जाएँ।
का्व्य जो जोश भरता है,
जोश ही शोक धोता है।

बाबू लाल शर्मा “बौहरा”
सिकंदरा,303326
दौसा,राजस्थान,9782924479

Leave A Reply

Your email address will not be published.