Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

सहज योग तुम कर लेना-राजेश पाण्डेय *अब्र*

0 301

सहज योग तुम कर लेना

तम की एक अरूप शिला पर
तुमको कुछ गढ़ते जाना है
भाग्य नहीं अब कर्म से अपने
राह में कुछ मढ़ते जाना है,

चरण चूमते जाएँगे सब
तुम कर्म की राह पकड़ लेना
भाग्य प्रबल होता है अक्सर
इस बात को तुम झुठला देना,

CLICK & SUPPORT

संकट काट मिटाकर पीड़ा
लक्ष्य विजय तुम कर लेना
भाग्य नहीं वीरों की कुंजी
सबल कदम तुम धर लेना,

दर्प से क्या हासिल होता है
सहज योग तुम कर लेना
सुस्त नहीं अब पड़ो पहरुए
कर्म सफल तुम कर लेना.

?

✒कलम से
राजेश पाण्डेय अब्र
   अम्बिकापुर
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Leave A Reply

Your email address will not be published.