KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

गीता पर दोहे -पुष्पाशर्मा”कुसुम”

0 223

गीता पर दोहे- पुष्पा शर्मा कुसुम द्वारा रचित


||1||
अर्जुन रथ की डोर को,थामे श्री भगवान।
कुरुक्षेत्र के समर में,दीन्हा दुर्लभ ज्ञान ||
||2||
खड़े बंधु सब सामने , गुरू पितामह आय।
वध इनका कैसे करूँ, माधव देहु बताय।।
||3|| 
मोहग्रस्त अर्जुन हुआ, छोड़ शौर्य अभिमान।
भिक्षायापन मैं करूँ नहीं चलाऊँ बाण।।
||4||
मोह निवारा पार्थ का,लेकर के संज्ञान।
कृष्ण चंद्र ने दे दिया, गीता दुर्लभ ज्ञान।।
||5||
मैं और मेरा कुछ नहीं, दिखता जो संसार।
एक तत्व सबमें बसे ,  सब उसका  विस्तार।।
||6||
आत्म तत्व मिटता नहीं,क्षणभंगुर है देह।  
अविनाशी का अंश है,नहीं बनाये गेह।।
||7||
कर्म करो सब धर्महित,मिटे सभी संताप
फल की ईच्छा मत करो,नहीं लगेगा पाप।।
||8||
धर्म हानि जब भी हुए, लेता मैं अवतार।
दुष्ट जनों का नाश कर,  लेऊँ  संत उबार।।
||9||
जीत भोगते राज्य को, मरे स्वर्ग को जाय।
अर्जुन दोनों ही जगह, युद्ध बना पर्याय।।
  ||10||
ज्ञान,भक्ति अरु कर्म का , दे अद्भुत संदेश।
मोह निवारा पार्थ का, दे गीता उपदेश।।

पुष्पाशर्मा”कुसुम”

Follow Kavita Bahar

विभिन्न मुद्दे, विषय, व्यक्तित्व और दिवस आधारित हिंदी कविता पढ़ने के लिए आप कविता बहार पर नियमित विजिट करें। हमारी कोशिश यह है कि आप सभी साहित्य से जुड़े हुए पाठकों को हिंदी कविता पढ़ने का मौका मिलता रहे । नीचे हमारे सोशल मीडिया ग्रुप्स को जॉइन करें, ताकि आपको अपडेट मिलता रहे।

गीता पर दोहे -पुष्पाशर्मा"कुसुम"
गीता पर दोहे -पुष्पाशर्मा"कुसुम"
गीता पर दोहे -पुष्पाशर्मा"कुसुम"
facebook Edudepart
Leave A Reply

Your email address will not be published.